Karkare ke Hatyare Kaun? Bharat mein aatankvaad ka asli chehra

  • Brand: Pharos Media
  • Product Code: Book-Pharos-Media-Karkare-ke-Hatyare-Kaun
  • Availability: 10
  • Normal Price: Rs 250
  • Discount: Rs 15 (6%)
  • Our Price: Rs 235


राज्य और राज्यविहीन तत्त्वों द्वारा राजनीतिक हिंसा या आतंकवाद का एक लम्‍बा इतिहास भारत में रहा है। इस आरोप ने कि भारतीय मुसलमान आतंकवाद में लिप्त हैं, 1990 के दशक के मध्य में हिंदुत्ववादी शक्‍तियों के उभार के साथ ज़ोर पकड़ा और केंद्र में भाजपा की सत्ता के ज़माने में राज्य की विचारधारा बन गया। यहाँ तक कि “सेक्यूलर” मीडिया ने सुरक्षा एजेंसियों के स्टेनोग्राफ़र की भूमिका अपना ली और मुसलमानों के आतंकवादी होने का विचार एक स्वीकृत तथ्य बन गया | हद यह कि बहुत-से मुसलमान भी इस झूठे प्रोपेगण्डे पर विश्‍वास करने लगे। पूर्व वरिष्ठ पुलिस अधिकारी एस.एम. मुशरिफ़ ने, जिन्होंने तेलगी घोटाले का भंडाफोड़ किया था, इस प्रचार-परदे के पीछे नज़र डाली है, और इसके लिए सार्वजनिक क्षेत्र व अपने लम्बे पुलिस अनुभव से प्राप्त ज़्यादातर जानकारियों (शोध-सामग्री) का उपयोग किया है। उन्होंने कुछ चौंकाने वाले तथ्यों को उजागर किया है, और अपनी तरह का पहला उनका यह विश्‍लेषण तथाकथित “इस्लामी आतंकवाद” के पीछे वास्तविक तत्त्वों को बेनक़ाब करता है। ये वही शक्‍तियां हैं जिन्होंने महाराष्ट्र ए टी एस के प्रमुख हेमंत करकरे की हत्या की, जिसने उन्हें बेनक़ाब करने का साहस किया और अपनी हिम्मत व सत्य के लिए प्रतिबद्धता की क़ीमत अपनी जान देकर चुकाई। यह पुस्तक भारत में “इस्लामी आतंकवाद” से जोड़ी गयीं कुछ बड़ी घटनाओं पर एक कड़ी नज़र डालती है और उन्हें आधारहीन पाती है।

  • Publisher: Pharos Media & Publishing Pvt Ltd
  • Publish Year: 2010
  • Edition: 1
  • Language: Hindi
  • Genre: Non-fiction
  • Pages: 368
  • Binding Type: PB











Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good

Related Products

Marne Ke Baad Kiya Hoga? - Hindi

Marne Ke Baad Kiya Hoga? - Hindi

Author: Maulana Mufti Mohammed Ashiq Elahi (Rah)Hindi Islamic book: This is a simple and perfect Hin..

Rs 140

Muntakhab Ahadith in Hindi- six qualities of Dawat and Tabligh

Muntakhab Ahadith in Hindi- six qualities of Dawat and Tabligh

Author: Maulana Muhammad Yusuf Kandhlawi (Rah)Subtitle: Organized by Maulana Muhammad Saad Kandhlawi..

Rs 200

Tags: Islamic book, Pharos Media, Islam, Religion, India, Terrorism, Hindi, Islamic books in Hindi